10 कानूनी कार मॉडिफिकेशन्स जिनके लिए आपकी कार को ज़ब्त नहीं किया जा सकता

भारत में कार मॉडिफिकेशन कानून बहुत सख्त हैं. अतीत में कई उदाहरण हुए हैं जब पुलिस ने मॉडिफिकेशन के लिए वाहन जब्त किए थे. कानूनी रूप से भारत में आप अपने वाहन पर क्या मॉडिफिकेशन करा सकते हैं? आइए देखते हैं.

बॉडी व्रैप

भारतीय बाजार में बॉडी व्रैप काफी प्रचलित बन गए हैं. कई गैरेज और कार की दुकानें हैं जो विभिन्न प्रकार के विनाइल व्रैप कर सकती हैं जो कार पर बेहद अच्छी लगती हैं. बॉडी व्रैप पूरी तरह से एक कार की लुक को बदल सकते हैं और इसे पूरे वाहन या पिलर, रूफ, बोननेट इत्यादि जैसे कुछ हिस्सों पर लगाया जा सकता है. बॉडी पर व्रैप करना पूरी तरह से कानूनी है क्योंकि यह वाहन के मूल रंग को नहीं बदलता है. हालांकि, अगर आप अपने वाहन को नए रंग में पेंट करना चाहते हैं, तो आपको स्थानीय RTO पर जाकर कार के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट पर इसे बदलवाना होगा.

बड़े टायर

एक नई कार पर भारत में सबसे आम अपग्रेड में से एक हैं पहिए. बहुत से लोग वाहन को बेहतर स्टान्स देने के लिए या सड़क पर जनता का ध्यान आकर्षित करने के लिए बड़े टायर और ऑफ्टरमार्केट एलॉय व्हील्स का उप्योग करते हैं. टायरों को अपसाइज़ करना और ऑफ्टरमार्केट एलॉय व्हील्स को अपग्रेड करना अवैध नहीं है. हालांकि, अगर आप ट्रक के साइज के टायर या बहुत बड़े टायर स्थापित करते हैं जो प्रतिकूल परिचालन को प्रभावित करते हैं, तो इससे कुछ समस्याएं पैदा हो सकती हैं और कार भी जब्त हो सकती है.

बॉडी किट्स

जबकि कुछ बॉडी किट पूरी तरह से एक कार की लुक बदलती हैं, वहीं कुछ बॉडी किट्स से कार बहुत आक्रामक लगती है. अधिकांश बॉडी किट बोल्ट-ऑन हैं और पूरी तरह से कानूनी हैं. यदि बॉडी किट वाहन की संरचना (या चेसिस) नहीं बदलती है, तो यह कानूनी है और किसी भी समस्या के बिना इसका उपयोग किया जा सकता है. हाल ही में, यहां तक कि कार निर्माताओं ने भी अपने डीलरशिप पर बॉडी किट की पेशकश शुरू कर दी है.

सस्पेंशन

किसी भी समस्या के बिना कारों के सस्पेंशन को बेहतर राइड क्वॉलिटी के लिए को हाई परफॉर्मन्स ऑफ्टरमार्केट वालों से प्रतिस्थापित किया जा सकता है. हालांकि, एक बड़े मार्जिन द्वारा ग्राउंड क्लीयरेंस बदलने से आपकी कार जब्त हो सकती है. स्टॉक सस्पेंशन सेट-अप से कुछ मिलीमीटर का अंतर अवैध नहीं है. कार मालिक आसानी से अपनी सवारी को मजबूत करने के लिए स्ट्रैट ब्रेसेस या सस्पेंशन पैड का भी उपयोग कर सकते हैं.

औक्स लैम्प्स

हेडलैम्प को मॉडिफाई करना खतरनाक और अवैध हो सकता है, पर ऑक्सिलरी लैम्प्स लगाना सुरक्षित है. ऑक्सिलरी लैम्प्स स्टॉक हेडलैंप की ऊंचाई से ऊपर स्थापित नहीं किए जाना चाहिएं और सार्वजनिक सड़कों पर सवार होने पर ये लैम्प्स ढंके होने चाहिए. इन लैम्प्स का रात में किसी अभियान या ऑफरोडिंग के दौरान किसी भी बाधा को खोजने के लिए उपयोग किया जाता है. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि छत पर लगाए लैम्प्स अवैध हैं.

LED इन्सर्ट

स्टॉक हेडलैम्प को मॉडिफाई करना अवैध हो सकता है यदि सही बल्ब का उपयोग नहीं किया गया हो, हेडलैम्प में LED DRL डालना अवैध नहीं है. LED DRL दिन के दौरान आपके वाहन को अधिक आसानी से दिखाई देने के लिए सड़क पर दूसरों की मदद करते हैं और कई ऑटोमोबाइल दुकानें हैं जो कारों में LED DRL लगाते हैं. इसी तरह, टेल लैम्प्स को भी LED इन्सर्ट के साथ मॉडिफाई किया जा सकता है ताकि वो अपमार्केट दिखाई दे सके. हालांकि, टेल लैम्प्स का रंग बदलना एक अपराध है.

कार को प्लश बनाना

Motor Vehicle Act के अनुसार कार में सीटों की संख्या बदलना मना है. हालांकि, लोग आफ्टरमार्केट से केबिन को अधिक प्लसर महसूस कर सकते हैं. कई कार मालिक अपने डोर ट्रिम, डैशबोर्ड और सीट्स को लैदर से कवर करवा देते हैं ताकि वो लक्ज़रियस महसूस हों. यह गैरकानूनी नहीं है लेकिन अगर कार एयरबैग से लैस है तो उन्हें डैशबोर्ड को चमड़े से व्रैप करने से दूर रहना चाहिए. चमड़े की परत एयरबैग मुद्रास्फीति में देरी कर सकती है जो कि सवारियों को गंभीरता चोट पहुँच सकती है.

फ्यूल सिस्टम बदलना

ऐसी कई दुकानें हैं जो आपकी कार में LPG या CNG किट स्थापित करती हैं और यह पूरी तरह से कानूनी है. हालांकि, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ये किट सरकार द्वारा प्रमाणित है. खराब गुणवत्ता वाले उत्पादों के साथ ईंधन को बदलने से ये दुर्घटना या रिसाव की स्थिति में विनाशकारी हो सकता है. साथ ही, ईंधन परिवर्तन किट स्थापित करने के बाद रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट पर बदलाव करवाना महत्वपूर्ण है.

सुरक्षा के फीचर्स

रिमोट सेंट्रल लॉकिंग जैसी सुरक्षा सुविधाओं को स्थापित करना भारत में कानूनी नहीं है. कई लोग बिना रिमोट सेंट्रल लॉकिंग वाला वर्शन खरीदते हैं और फिर इसे इंस्टॉल करवा लेते हैं. यह एक बहुत अधिक मूल्य प्रभावी तरीका है. इलेक्ट्रिकल मॉडिफिकेशन्स के लिए वाहन की वारंटी रद्द हो सकती है, लेकिन इसके लिए कोई पुलिस आपकी कार को जब्त नहीं करगी.

सहूलियत वाले फ़ीचर्स

ड्राइविंग आसान बनाने के लिए कार मालिक ऑफ्टरमार्केट एक्सेसरीज स्थापित कर सकते हैं. पार्किंग सेंसर और रियर व्यू कैमरा जैसी विशेषताएं केवल टॉप-एन्ड वेरिएंट में उपलब्ध हैं. यदि कार के ऊँचे वेरिएंट को इन विशेषताओं के साथ होमोलोगेट किया गया है, तो लो वेरिएंट्स को कानूनी रूप से इन सुविधाओं के साथ बिना किसी समस्या के स्थापित किया जा सकता है.

रूफ रैक

रूफ रैक सामान ले जाने के लिए स्थापित होते हैं, लेकिन हर कोई अपने वाहनों पर रूफ रैक स्थापित नहीं कर सकता है. रूफ रैक को वाहन के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट पर अनुमोदित किया जाना चाहिए. कई घटनाओं रूफ रैक स्थापित करने के लिए कार्स पर जुर्माना जारी किया गया है.